Judai Ka Zehar Shayari

आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो
मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो
किस किस अदा से तुझे माँगा है खुदा से
आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो।

Add Comment