Sad Love Intezar Shayari in Urdu

मेरी नज़र बरसो मुन्तजिर रही है तेरी,
हर गुजरते चेहरे का तवाफ किया है मेने
बिछड़ने वाले लोट के आते है एक दिन,
ये सोच के हर पल इंतजार किया है मेने!

Add Comment